sapne me bhut dekhna kaisa hota hai

sapne me bhut dekhna kaisa hota hai

sapne me bhut dekhna। सपने में भूत देखना

    sapne me bhut dekhna एक बहुत ही बड़ा डरावना सपना होता है। सपनो की दुनिया भी बड़ी विचित्र और रहस्यमय दुनिया है। सपने में हम देखते है तरह तरह के लोग तरह की घटनाएं , विचित्र प्रकार की चीजें और काफी कुछ। नींद में देखे गए सपनो का हमारी वास्तविक जिंदगी पर भी प्रभाव पड़ता है।

  ये प्रभाव दो तरह का होता है अच्छा और बुरा। तो कई बार हम भविष्य में घटने वाली घटनाओं को भी स्वप्न के स्वरूप में देख लेते है। तो कई बार व्यक्ति sapne me bhut dekhna, राक्षस, छाया और भी काफी सरी दरावानी चीजें देख लेता है।

      और जब भी कोई व्यक्ति इन चीजों को देखता है तो कई बार व्यक्ति खुद भी डर जाता है कि कहीं मेरे साथ कुछ बुरा ना हो जाए। तो आज हम यहां आपको बताने जा रहे हैं कि। sapne me bhut dekhna ya pret dekhna या डरावनी चीजें देखने का क्या मतलब होता है। तो इस topic पर पूरी माहिती के लिए लास्ट तक पढ़िएगा।

sapne me bhut dekhna
sapne me bhut dekhna

sapne me bhut dekhna

    यदि किसी व्यक्ति को सपने में भूत दिखाईं देता है।  तो स्वप्न ज्योतिष के अनुसार इस स्वप्न को अच्छा स्वप्न नहीं माना जाता है। स्वप्न ज्योतिष के अनुसार इसका अर्थ होता है कि आपको निकट भविष्य में किसी तरह का नुकसान हो सकता है।

    पर मनोविज्ञान कहता है कि इसका मतलब शुभ अशुभ जैसा कुछ नहीं होता है। मनोविज्ञान के अनुसार ये सिर्फ़ व्यक्ति का अंदरूनी डर होता है। मतलब कि ये मन कि आपकी यादों के साथ काम निपटाने कि वजह से उत्पन्न होता है और फिर ये स्वपन के रूप में दिखाई देता है।

     यदि किसी भी व्यक्ति को सपने में भूत प्रेत या राक्षस या फिर कोई छाया या अन्य कोई डरावनी चीजें दिखती हैं। तो इसका ये मतलब नहीं है कि आपने नींद में सपने में को कुछ देखा है वो आपके साथ होगा या फिर आपके साथ कोई बुरी घटना घटेगी। हमारा मन एक कैमरे की तरह ही है। हमारा मन चौबीसों घण्टे कुछ ना कुछ अच्छी और बुरी चीजें एक रिकॉर्डर की तरह रिकॉर्ड करता रहता है।

इसे भी पढ़ेंsapne me periods dekhna kaisa hota hai

sapne me peshab dekhna kaisa hota hai

chankya niti quotes in Hindi। chankya niti

sapne me bindi dekhna kaisa hota hai। Svapn jyotish

        जैसे कि आप टीवी देख रहे हो या फिर मोबाइल देख रहे हों। और उसमे कोई फिल्म या सीरियल में कोई डरावनी चीज आती है तो आपका मन उसे रिकॉर्ड कर लेता है। ठीक उसी तरह जैसे आप अपने मोबाइल में वीडियो रिकॉर्ड करते हो।यां फिर आपने किसी बुजुर्ग आदमी या फिर अपने दादा दादी यां फिर किसी अन्य व्यक्ति से ऐसी कोई भूत प्रेत या डरावनी चीजों के बारे में बातें सुनते हो। तब भी हमारा मन उसे रिकॉर्ड करता रहता है।

     और फिर जब हम रात को सोते हैं तब हमारा मन दिन भर रिकॉर्ड की गई चीजों को एक कंप्यूटर की तरह अलग अलग करके छांटता है। कि कौनसी चीजें सबसे पहले क्रम में रखनी है कौनसी चीजें दूसरे ,तीसरे क्रम में याद रखनी है वगैरह वगैरह। हमारा मन उन चीजों को ज्यादा याद दिलाता है जिसके बारे में हम ज्यादा सोचते रहते हैं।

यह भी पढ़े – Kisi bhi samsya ka samadhan kaise kare

Narak ke kitne dwar। नरक के कितने द्वार है

Mansik durbalta ke lakshan kya hai

   इसलिए डरावनी चीजों के बारे में ज्यादा ना सोचे। और भगवान या अपने इष्टदेव या अपनी कुलदेवी माता पर विश्वास रखे। और उन्हें याद करे और हमेशा निडर रहे। और व्यक्ति यदि बार बार डरावने सपने आते है तो वो हनुमान चालीसा का नित्य पाठ करें। हर शनिवार भगवान हनुमान के दर्शन कर के आए और हनुमानजी के ऊपर अपना अतुट विश्वास रखे।

    हनुमानजी भगवान शिव का ही अंश है, यानी कि हनुमानजी भी स्वयं रुद्र है। महा तेजस्वी और अत्यंत बलशाली है अतेव हनुमानजी के ऊपर पूरी श्रद्धा और विश्वास रखने से एवम् नित्य हनुमान चालीसा का पाठ करने से आपको कभी बुरे और डरावने सपने नहीं आएंगे। जय हनुमान जी महाराज 

स्वामी विवेकानंद जी कहते हैं कि कोई भी चीज आपको शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक यां अध्यात्मिक रूप से कमजोर बनाए उसे जहर समझ कर छोड़ दो।

Anything makes you weak physically, mentally, intellectually or spiritually Reject it as a poison.

    स्वामी विवेकानन्द जी कहते है कि आप एक अमर आत्मा है। आत्मा कि कभी मृत्यु ही नहीं होती इसलिए मन में से सभी प्रकार के डर को भगा दीजिए।
 
  आप जितना ज्यादा डरते रहेंगे आप उतने ही ज्यादा कमजोर होते जाएंगे। जब तक शरीर कमजोर ना हो उसमे कोई रोग उतपन्न नहीं होता है। और जब तक मन कमजोर नहीं होता तब तक उसमे कभी डर उत्पन्न नहीं होता है।

   मतलब कि यदि आप किसी भी चीज़ से डर रहें हैं तो आपका मन कमजोर है मतलब कि आपके विचार कमजोर है आपकी सोच कमजोर है। तो यदि आप डर से छुटकारा पाना चाहते हैं तो अपने मन में से डर के सारे विचार निकाल दीजिए कभी भी डरपोक वाले विचार ना करे।

   जब भी आपके मन में डर पैदा हो तब उसका उल्टा विचार किजिए यानी कि ये विचार किजिए कि आप बहुत ही बहादुर है आप किसी से नहीं डरते। ये डर एक दीन में नहीं निकलेगा पर आपको रोज अपने आप से कहना पड़ेगा कि में बहादुर हूं मैं किसी से नहीं डरता और आपको इस बात पर विश्वास करना पड़ेगा।

   कई बार डरना आपकी आदत बन जाती है जैसे कि sapne me bhut dekhna यां डरावने सपने आना ,इसलिए इस आदत को निकालने कर लिए ऊपर बताए गए सुझाव के उपर आपको लगातार प्रयास करते रहना पड़ेगा।  क्योंकी मन कि आदतें तुरंत नहीं छूटती इसमें समय लगता है। पर यदि आप डर को अपने मन से निकालने का मन बनाले तो आपको कोई नहीं डरा सकता।

   इस दुनियां मे सबसे शक्तिशाली है हमारा मन, तो आप हमेशा मानसिक रूप से मजबूत बने रहिए आपको कभी कोई नहीं डरा पाएगा 

जय भोलेनाथ, जय शिव शंकर

धन्यवाद्


error

Enjoy this blog? Please spread the word :)

RSS
Follow by Email
LinkedIn
Share
Instagram
Telegram
WeChat
WhatsApp